LOADING

Type to search

केंद्र पूर्वोत्तर में नए आयुष कॉलेज खोलने में मदद को तैयार: सर्बानंद सोणोवाल » भाजपा की बात

News

केंद्र पूर्वोत्तर में नए आयुष कॉलेज खोलने में मदद को तैयार: सर्बानंद सोणोवाल » भाजपा की बात

Share
केंद्र पूर्वोत्तर में नए आयुष कॉलेज खोलने में मदद को तैयार: सर्बानंद सोणोवाल » कमल संदेश

केंद्रीय आयुष, बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोणोवाल ने शनिवार को कहा कि केंद्र सरकार ने देश भर में अधिक संख्या में आयुष शिक्षण कॉलेज खोलने के लिए वित्तीय सहायता को नौ करोड़ रुपए से बढ़ाकर 70 करोड़ रुपए कर दिया है। केन्द्रीय मंत्री शनिवार को गुवाहाटी में आयुष मंत्रालय द्वारा ‘आयुष प्रणालियों में विविध और पूर्ण करियर पथ: पूर्वोत्तर राज्यों में शिक्षा, उद्यमिता और रोजगार पर फोकस’ पर आयोजित एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

इस अवसर पर सोणोवाल ने कहा कि उत्तर-पूर्व में आयुष की शिक्षा देने वाले कॉलेज अपेक्षाकृत कम हैं। ऐसे में इस क्षेत्र में भारतीय पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली को लोकप्रिय बनाने के लिए ज्यादा संख्या में योग्य चिकित्सकों की जरूरत है। इस तथ्य के मद्देनजर पूर्वोत्तर राज्यों में अधिक संख्या में आयुष शिक्षण कॉलेजों की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इससे पहले राष्ट्रीय आयुष मिशन की केंद्र प्रायोजित योजना के तहत राज्य सरकारों को नए आयुष कॉलेज खोलने के लिए 9 करोड़ रुपए की वित्तीय सहायता प्रदान की गई थी। अब भारत सरकार ने इस राशि को बढ़ाकर 70 करोड़ रुपए कर दिया है। उन्होंने कहा कि अब राज्य नए कॉलेजों की स्थापना के लिए भूमि की पहचान कर सकते हैं, मानव संसाधन जुटा सकते हैं और ‘एनएएम’ के दिशानिर्देशों के अनुसार इस अवसर का लाभ उठा सकते हैं।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि आयुष मंत्रालय ने असम स्थित सरकारी आयुर्वेदिक कॉलेज, जलुकबाड़ी को 10 करोड़ रुपए तक की सहायता से उत्कृष्टता केंद्र के रूप में उन्नत करने की सैद्धांतिक मंजूरी भी दे दी है। उन्होंने कहा कि उनके मंत्रालय ने अंडर ग्रेजुएट टीचिंग कॉलेजों को अपग्रेड करने के लिए 5 करोड़ और पोस्ट ग्रेजुएट संस्थानों के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए 6 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए हैं।

इस मौके पर सोणोवाल ने केंद्रीय आयुर्वेद अनुसंधान संस्थान (सीएआरआई), गुवाहाटी में स्वास्थ्य क्षेत्र कौशल परिषद – राष्ट्रीय कौशल विकास निगम से संबद्ध पंचकर्म तकनीशियन पाठ्यक्रम शुरू करने की भी घोषणा की। इसके तहत 10 + 2 स्तर के छात्रों के लिए 10 सीटें रखी गई हैं। इससे पूर्वोत्तर क्षेत्र में पंचकर्म चिकित्सा के लिए कुशल मानव संसाधन तैयार करने और रोजगार के अवसरों में वृद्धि करने में मदद मिलेगी।

सम्मेलन संबोधित करते हुए केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि हाल के वर्षों में आयुष क्षेत्र में सभी विषयों के पेशेवरों के लिए करियर के अवसरों में आश्चर्यजनक रूप से वृद्धि हुई है।  इसके अलावा, इन प्रयासों के परिणामस्वरूप, दुनिया भर के समुदायों के बीच आयुष प्रणाली में विश्वास भी बढ़ा है। उन्होंने कहा कि आयुष में बड़ी संख्या में लोगों की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों को पूरा करने और इस देश के विकास में योगदान करने की क्षमता है।

 

इस सम्मेलन में असम सरकार में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण और विज्ञान और प्रौद्योगिकी और सूचना और प्रसारण मंत्री, केशब महंत बतौर सम्मानित अतिथि, उपस्थित थे।

आयुष मंत्रालय ने इस महीने की शुरुआत में सभी उत्तर-पूर्वी राज्यों के आयुष मंत्रियों का एक ऐतिहासिक सम्मेलन सफलतापूर्वक आयोजित किया था और इस क्षेत्र में आयुष प्रणाली को लोकप्रिय बनाने के लिए बुनियादी ढांचे के विकास पर विचार-विमर्श किया था। आयुष में शिक्षा और करियर के अवसरों पर चर्चा करने वाले विशेषज्ञों के साथ आज का सम्मेलन  इस दिशा अगला कदम था।

इस सम्मेलन की शुरुआत अतिथियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलित करने के साथ हुई। इसके बाद आयुष मंत्रालय के संयुक्त सचिव डी. सेंथिल पांडियन ने उद्घाटन भाषण दिया। इसी क्रम में आयुष प्रणाली के विशेषज्ञों और संस्थानों के प्रमुखों ने आयुष क्षेत्र में उपलब्ध शिक्षा, करियर के अवसरों और उद्यमशीलता के विकल्पों पर विस्तृत प्रस्तुतिया दीं।

इस अवसर पर भारतीय चिकित्सा पद्धति के राष्ट्रीय आयोग (एनसीआईएसएम) के अध्यक्ष वैद्य जयंत यशवंत देवपुजरी ने ‘कैरियर के अवसर, आयुर्वेद में शिक्षा’ पर प्रस्तुति दी।  इसके बाद उत्तर पूर्वी राज्यों में करियर अवसर और आयुष की संभावनाओं की खोज पर सत्र का आयोजन किया गया। इस सत्र में राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान जयपुर के निदेशक प्रो. संजीव शर्मा ने ‘पूर्वोत्तर राज्यों में आयुर्वेद में शिक्षा और करियर के अवसर’ पर व्याख्यान दिया और सीसीआरएएस,नई दिल्ली के महानिदेशक डॉ. एन. श्रीकांत ने ‘पूर्वोत्तर राज्यों भारत में अनुसंधान एवं विकास’ विषय पर व्याख्यान दिया।

श्रीमती इंद्राणी महतो, प्रबंधक, स्टार्टअप इंडिया, उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग ने ‘आयुष क्षेत्र में उद्यमिता’ स्टार्टअप’ पर एक विशेष संबोधन किया।

डॉ. सुभाष सिंह, निदेशक, एनआईएच, कोलकाता ने होम्योपैथी में करियर के अवसर पर व्याख्यान;  पूर्वोत्तर राज्यों में औद्योगिक परिप्रेक्ष्य’ प्रस्तुत किया। पूर्वोत्तर राज्यों में होम्योपैथी में कैरियर के अवसर शिक्षा पर व्याख्यान डॉ. तारकेश्वर जैन, सचिव, एनसीएच, नई दिल्ली द्वारा दिया गया और ‘पूर्वोत्तर भारत में अनुसंधान एवं विकास और सार्वजनिक स्वास्थ्य’ डॉ सुभाष चौधरी, एनआईएच, कोलकाता द्वारा दिया।

इसी तरह, ‘यूनानी में अनुसंधान शिक्षा और कैरियर के अवसर’ पर एक व्याख्यान प्रो. असीम अली खान, महानिदेशक, सीसीआरयूएम, नई दिल्ली द्वारा दिया गया। ‘सिद्धा में अनुसंधान शिक्षा और कैरियर के अवसर’ विषय पर व्याखयान प्रो. डॉ. के. कनकवल्ली, महानिदेशक, सीसीआरएस, चेन्नई द्वारा दिया गया।  डॉ. पद्म गुरमीत, निदेशक, एनआरआईएस, लेह ने ‘सोवा-रिग्पा में अनुसंधान शिक्षा और कैरियर के अवसर’ पर व्याख्यान दिया जबकि ‘योग और प्राकृतिक चिकित्सा में अनुसंधान शिक्षा और कैरियर के अवसर’ विषय पर डॉ. राघवेंद्र राव, निदेशक, केंद्रीय योग और प्राकृतिक चिकित्सा अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली ने अपना व्याख्यान दिया।

इस सत्र के बाद आयुष उद्योग के प्रतिनिधियों ने ‘कैरियर अवसर और उद्यमिता: उद्योग परिप्रेक्ष्य’ पर प्रस्तुति दी, जिसके बाद उत्तर पूर्वी राज्यों के विभिन्न क्षेत्रों के आयुष छात्रों और विद्वानों के साथ संवाद सत्र हुआ।

इस सम्मेलन में आयुष मंत्रालय, आयुष संस्थानों और अनुसंधान परिषदों और पूर्वोत्तर राज्यों के आयुष कॉलेजों के अधिकारियों सहित लगभग 250 प्रतिभागियों ने भाग लिया।

(News Source -Except for the headline, this story has not been edited by Bhajpa Ki Baat staff and is published from a hindi.kamalsandesh.org feed.)

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *